सीतारमण – जल्द जीएसटी के दायरे में आ सकते हैं पेट्रोल-डीजल

Share this Post

नई दिल्ली : वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने सोमवार को संसद में बड़ा पेट्रोल-डीजल के बारे में बड़ा संकेत दिया है। सीतारमण ने कहा है कि पेट्रोलियम उत्‍पादों को भविष्‍य में जीएसटी जैसी व्यवस्था के दायरे में लाया जा सकता है।

वित्‍त मंत्री सीतारमण ने संसद में सोमवार को कहा कि पेट्रोलियम उत्‍पादों को जीएसटी दायरे में लाने का सुझाव नहीं है लेकिन इन्‍हें एक कर व्‍यवस्‍था के अंतर्गत लाने के बारे में सोचा जा सकता है।

अभी राज्य सरकारें 35 से 40 प्रतिशत टैक्स वसूलती हैं
पेट्रोल-डीजल पर केंद्र सरकार एक्साइज और राज्य सरकारें वैट वसूलती हैं। कुछ राज्यों में टैक्स की कुल रकम 60 से 70 प्रतिशत तक है। जबकि जीएसटी की उच्चतर दर 28 फीसदी है।

हालांकि यदि राज्यों से टैक्स का अधिकार वापस लिया जाता है तो उनकी आर्थिक स्थिति चरमरा सकती है। इसलिए राज्य सरकारें पेट्रोल -डीजल पर जीएसटी का विरोध करती हैं जबकि आर्थिक सुधार के लिए विशेषज्ञ इसे जरूरी बता रहे हैं।

उनके मुताबिक जीएसटी में आने के बाद पेट्रोल-डीजल के रेट कम हो जाएंगे। इससे आम जनता को फायदा मिलेगा। उनकी परचेसिंग पॉवर बढ़ेगी जो अर्थव्यवस्था के लिए अच्छा कदम होगा।

सोर्स : भास्कर

जीएसटी काउंसिल की वेबसाइट के लिए यहाँ क्लिक

यह भी पढ़े

Maharashtra aces in GST, contributes 15% of total collection in India
Maharashtra aces in GST, contributes 15% of total collection in India

Share this Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

r