महाराष्ट्र राज्य जीएसटी ने वसूले वैट के 8 करोड़ रुपए

Share this Post

रायगढ़ : जीएसटी के जमाने में महाराष्ट्र राज्य जीएसटी विभाग के अफसरों ने वैट का बकाया पुराना 8 करोड़ वसूल लिया है। जिले में दोनों सर्किल को मिलाकर करीब 26 सौ व्यवसायियों पर पूर्व के वर्षों वैट, सेंट्रल सेल्स टैक्स एवं एंट्री टैक्स लंबित था लेकिन शिविर लगाकर विभाग ने पुराने बकाया में से 8 करोड़ की रिकवरी कर ली है।

जीएसटी लागू हो जाने के दो साल बाद भी महाराष्ट्र राज्य जीएसटी विभाग का वैट से पीछा नहीं छूटा है। जीएसटी के बाद वाणिज्यिक कर विभाग से राज्य जीएसटी विभाग हो जाने के बाद भी अफसर पुराने कर प्रणाली के तहत भी काम कर रहे हैं। दरअसल जीएसटी लागू हो जाने के बाद भी पूर्व के वर्षों में व्यवसायियों पर वैट का बकाया था।

2014-15 से लेकर 2016-17 तक के वित्तीय वर्ष के लिए व्यवसायियों पर वैट की देयता बन रही थी। इसमें से कई फर्मों को असेसमेंट के बाद विभाग ने नोटिस भेजा था और चालान के माध्यम से वैट टैक्स, एंट्री टैक्स एवं सेंट्रल सेल्स टैक्स के तहत जो कर देयता बन रही थी।

उसे अदा करने कहा था लेकिन इसमें से कई फर्म अपील में चली गई और कुछ ने राजधानी में इस ज्वाइंट कमिश्नर के पास इसे रिवीजन में लगा दिया। जिसके बाद विभागीय जांच पड़ताल एवं असेसमेंट की प्रक्रिया पूरी की गई और फिर व्यवसायियों का भी पख सुना गया।

इस दौरान मार्च महीने में विशेष शिविर लगाकर संबंधित व्यवसायियों को उनकी कर देयता पूरी करने के लिए नोटिस दिया गया और राज्य कर विभाग के इंस्पेक्टरों ने व्यवसायियों से करीब 8 करोड़ रूपए की वैट की पुरानी रिकवरी कर ली।

विभाग के रिकार्ड के अनुसार इस दौरान सर्किल 1 से करीब 175 डीलरों से 3 करोड़ 91 लाख रूपए की वैट की पुरानी वसूली की गई और सर्किल दो में करीब ढाई हजार व्यवसायियों को नोटिस देकर वैट का पुराना बकाया 4 करोड़ रूपये वसूला गया है।

वैट के लिए खंगाली पुरानी फाइल
जीएसटी आ जाने के बाद हर महीने कोई ना कोई नया सर्कुलर आ जा रहा है। दो साल से विभाग के अफसर जीएसटी के दिशानिर्देश को लेकर ही उलझे रहते हैं। इस दौरान पूर्व के वैट टैक्स के करारोपण एवं पेनाल्टी लगाने के लिए पुराने आदेश एवं नियमावली को खंगालना पड़ा। जिसके बाद संबंधित फर्म पर वैट का बकाया निकालकर अफसरों ने जाकर इसकी रिकवरी भी की।

राज्य कर विभाग वैट की पुरानी रिकवरी के लिए भी काम कर रहा है। इस बार हमने पूर्व के वित्तीय वर्षों के वैट के बकाया की भी वसूली की है। सर्किल वन और सर्किल 2 को मिलाकर करीब 8 करोड़ रूपये वैट का पुराना बकाया वसूल किया गया है।
– सीआर महिलांगे, डिप्टी कमिश्नर, महाराष्ट्र राज्य जीएसटी विभाग 

ALSO READ : Transfers on 1 May 2019 (CSS, IAS, etc)


Share this Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

r