सड़क निर्माण कंपनी पर जबलपुर सेंट्रल जीएसटी का छापा, 18 करोड़ की कर चोरी पकड़ी

Share this Post

जबलपुर : सड़क और सरकारी कार्यों के निर्माण का ठेका लेने वाली श्रीजी इंफ्रास्ट्रक्चर इंडिया प्राइवेट लिमिटेड और उससे जुड़ी कंपनियों पर जबलपुर सेंट्रल जीएसटी की प्रिवेंटिव शाखा ने छापे की कार्रवाई की। कंपनी के सिविल लाइन जबलपुर स्थित कार्यालय के अलावा रायपुर और भोपाल में एक साथ कार्रवाई की गई।

शुक्रवार देर रात तक चली कार्रवाई में 18 करोड़ से ज्यादा के कर चोरी के दस्तावेज मिले। इसमें शनिवार को 1.50 करोड़ रुपए जमा कराए गए। कर चोरी के मामले में इस वित्तीय वर्ष में सेंट्रल जीएसटी की यह बड़ी कार्रवाई है। कर अपवंचक शाखा की ओर से कंपनी के रिटर्न की जांच की गई। जांच के सामने आया की समूह अवैध इनपुट टैक्स क्रेडिट के माध्यम से भारी मात्रा में कर चोरी कर रहा था।

श्रीजी इंफ्रास्ट्रक्चर इंडिया प्राइवेट लिमिटेड कंपनी ने अन्य कई कंपनियों के साथ ज्वाइंट वेंचर बनाकर ठेके लिए और उन पर कार्य किया। जबकि, टैक्स का पूरा भुगतान इनपुट टैक्स क्रेडिट के जरिए किया गया।

जबलपुर सेंट्रल जीएसटी को जानकारी मिली की कंपनी ने कई राज्यों में सडक़ और शासकीय निर्माण कार्य किए हैं। कंपनी के जबलपुर के अलावा रायपुर और भोपाल में भी कार्यालय हैं।

वहां भी कंपनी का संचालन किया जा रहा है। लेकिन, कंपनी पूरा जीएसटी जमा नहीं कर रही थी। इस पर सेंट्रल जीएसटी के प्रिंसिपल कमिश्नर पीके अग्रवाल ने सेंट्रल जीएसटी के रायपुर और भोपाल आयुक्तालय के समन्वय से टीम का गठन किया। इसी आधार पर तीनों जगह कार्रवाई की गई। जबलपुर में जॉइंट कमिश्नर नीरज चौबे और असिस्टेंट कमिश्नर टिकेंद्र कृपाल के निर्देशन में टीम ने छापा मारकर कार्यालय से दस्तावेज जब्त किए।

जांच के बाद करेंगे खुलासा
श्रीजी इंफ्रास्ट्रक्चर कंपनी के कार्यालयों पर रायपुर, जबलपुर के अलावा भोपाल में भी कार्रवाई की गई है। हालांकि विभाग ने इसे फिलहाल पूरी तरह से गुप्त रखा है।

विभागिय सूत्रों का कहना है कि श्रीजी के संचालक के इम्राल्ड पार्क, साकेतनगर में जांच की गई। यहां से भारी मात्रा में दस्तावेज बरामद किए गए हैं। हालांकि इन दस्तावेज की स्क्रूटनी के बाद ही पता चलेगा की कंपनी ने कितना कर अपवंचक किया है।

रायपुर में एक करोड़ रुपए की कर चोरी
श्रीजी इंफ्रास्ट्रक्चर कंपनी के रायपुर के तेलीबांधा स्थित कार्यालय में सेंट्रल जीएसटी ने कार्रवाई की। बताया जाता है कि कंपनी अप्रैल, मई और जून का करीब 1 करोड़ रुपए की कर चोरी किया है। जबलपुर जीएसटी टीम यहां से करोड़ों रुपए के लेनदेन के बोगस दस्तावेज जब्त कर लौट गई है।

जबलपुर सेंट्रल जीएसटी आयुक्तालय के असिस्टेंट कमिश्नर (प्रिवेंटिव शाखा) टिकेंद्र कृपाल ने बताया कि श्रीजी इंफ्रास्ट्रक्चर इंडिया प्राइवेट लिमिटेड कंपनी के रिटर्न की जांच की गई। कंपनी अवैध इनपुट टैक्स क्रेडिट के माध्यम से टैक्स चोरी कर रही थी। अभी लगभग 18 करोड़ रुपए का कर अपवंचक सामने आया है।

सेंट्रल जीएसटी मध्य प्रदेश – छत्तीसगढ़ जोन के चीफ कमिश्नर विनोद कुमार सक्सेना ने बताया कि हां, श्रीजी इंफ्रास्ट्रक्चर कंपनी पर विभाग की कार्रवाई चल रही है। इससे ज्यादा अभी कुछ बताया नहीं जा सकता। दस्तावेज जब्ती में ले लिए हैं।

ALSO READ :


Share this Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

r