बिटकॉइन पर लगेगा जीएसटी?

Share this Post

क्या बिटकॉइन एक्सचेंजों को गुड्स ऐंड सर्विसेज टैक्स देने की जरूरत है? यदि हां, तो किस दर पर? और जीएसटी एक्सचेंजों के रेवेन्यू पर लगेगा या ऑपरेटिंग मार्जिन पर?

जेबपे, यूनोकॉइन और कॉइनशेयर जैसे बिटकॉइन जैसे भारत के सात टॉप एक्सचेंज इन सवालों के स्पष्ट जवाब के लिए अडवांस अथॉरिटी ऑफ रूलिंग (AAR) से संपर्क करने की तैयारी में हैं। इस मामले से जुड़े 2 लोगों ने यह जानकारी इकनॉमिक टाइम्स को दी है। AAR एक अर्ध न्यायिक संस्था है, जो यह तय कर सकती है कि टैक्स बनता है या नहीं।

जानें, किस तरह तैयार किया जाता है बिटकॉइन

इस मामले से जुड़े एक शख्स ने बताया, ‘कम से कम एक बिटकॉइन एक्सचेंज ने पहले ही महाराष्ट्र AAR के सामने आवदेन कर दिया है। टैक्स डिपार्टमेंट अभी इस मुद्दे पर रिसर्च में जुटा है, क्योंकि बिटकॉइन बहुत जटिल विषय है।’ जेबपे, यूनोकॉइन और कॉइनशेयर जैसे बिटकॉइन ने इस मुद्दे पर प्रतिक्रिया देने से इनकार किया।

इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने दिसंबर में बड़े बिटकॉइन एक्सचेंजों पर सर्च अभियान चलाया। इनडायरेक्ट टैक्स डिपार्टमेंट यह देख रहा है कि बिटकॉइन को किस तरह जीएसटी के दायरे में लाया जाए। भारत में काम कर रहे बिटकॉइन एक्सचेंजों की इनडायरेक्ट टैक्स डिपार्टमेंट ने जांच शुरू की है। यह जांच इसका पता लगाने के लिए हो रही है कि गुड्स ऐंड सर्विसेज टैक्स (जीएसटी) रिजीम के तहत इन पर किस रेट से टैक्स वसूलना चाहिए।

एक्सचेंजों पर कितना जीएसटी लगेगा यह इस बात पर निर्भर करता है कि बिटकॉइन को करंसी माना जाता है या सर्विस। यदि बिटकॉइन को करंसी के रूप में मान्यता मिलती है तो इस पर कोई जीएसटी नहीं लगेगा और यदि इसे सामान बताया जाता है तो इस 18 फीसदी टैक्स लगेगा और सर्विस के रूप में मान्यता मिलने पर 12 फीसदी टैक्स देना होगा।

ALSO READ : GST, note ban to keep India’s GDP growth below 7% this fiscal

सोर्स : नवभारत


Share this Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *