फर्जी कंपनी बनाकर दो करोड़ की गड़बड़ी, जीएसटी इंटेलिजेंस का छापा

Share this Post

पिछले हफ्ते सेंट्रल जीएसटी और जीएसटी इंटेलिजेंस (डीजीजीआई) की टीमों ने एक बड़ी कार्यवाही को पूरा करते हुए एक बड़ा छपा मारा जिसमे दो करोड़ से अधिक का जीएसटी फर्जीवाड़ा सामने आया है।

बिलासपुर : शहर में फर्जी फर्म मे. मां इंटरप्राइजेज और मे. कुमार इंटरप्राइजेज के नाम पर दो करोड़ का फर्जीवाड़ा सामने आया है।

सेंट्रल जीएसटी और जीएसटी इंटेलिजेंस (डीजीजीआई) की टीम ने दो जगह छापामार कार्रवाई की है।

जीएसटी इंटेलिजेंस (डीजीजीआई) को जानकारी मिली थी कि बिलासपुर मेंफर्जी फर्म मे. मां इंटरप्राइजेज और मे. कुमार इंटरप्राइजेज बनाकर कर की चोरी की जा रही है।

जहां जीएसटी नियमों का पालन भी नहीं किया जा रहा है। इससे विभाग को राजस्व की हानि हो रही है।

शुरुआती पड़ताल के बाद जीएसटी इंटेलिजेंस क्षेत्रीय इकाई बिलासपुर के वरिष्ठ आसूचना अधिकारी राकेश राठौर के नेतृत्व में 30 सदस्यीय टीम ने 27 सितंबर को छापामार कार्रवाई की।

कार्रवाई के दौरान दोनों फर्म द्वारा जुलाई से अगस्त 2019 तक फर्जी बिलों के आधार पर विभिन्न् फर्म को फर्जी क्रेडिट देने का खुलासा हुआ। इसी तरह रायपुर, हैदराबाद, बेंगलुरु व बेलगावी यूनिट की इंटेलिजेंस ने हैदराबाद, बेंगलुरु और रायचूर के नौ स्थानों पर दबिश दी।

कार्रवाई के दौरान तीन और फर्जी फर्म श्री साईं ट्रेडर्स, एसवी इंटरप्राइजेज और जेपी इंटरप्राइजेज को फर्जी कागज के आधार पर जीएसटी चोरी करते पकड़ा गया। इस दौरान मौके पर ही फर्म द्वारा 22 लाख स्र्पये की जीएसटी कर का भुगतान कराया गया।

बड़ा रैकेट चलने की आशंका
टीम को फर्जी बिलों के आधार पर क्रेडिट हस्तांतरण करने का बड़ा रैकेट चलाए जाने की आशंका है। जानकारी के मुताबिक कई फर्जी फर्म फर्जी बिल के आधार पर कर चोरी कर रहे हैं। आने वाले दिनों में कुछ और फर्म के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

“फर्जी फर्म द्वारा कर चोरी किए जाने की शिकायत मिली थी। इसी के आधार पर दोनों जगह छापामार कार्रवाई की गई। इस दौरान फर्जी बिल के माध्यम से दो करोड़ का फर्जी के्रडिट हस्तांतरण करते हुए पकड़ा गया है।”
– राकेश राठौर, वरिष्ठ आसूचना अधिकारी (सीनियर इंटेलिजेंस अफसर), केंद्रीय वस्तु एवं सेवाकर आसूचना महानिदेशालय (डीजीजीआई), क्षेत्रीय इकाई बिलासपुर


CLICK HERE FOR GST Intelligence (DGGI) WEBSITE

ALSO READ :


Share this Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *