जीएसटी : रिफंड अटकने से हैंडीक्राफ्ट एक्सपोर्ट में गिरावट, ऑर्डर हो रहे हैं कैंसल

Share this Post

नई दिल्ली। साल 2017-18 में हैंडीक्राफ्ट एक्सपोर्ट गिरावट दर्ज कर सकता है। बीते आठ महीने से रिफंड अटकने का सीधा असर वर्किंग कैपिटल, लेट शीपिंग और ऑर्डर कैंसिलेशन पर हुआ है, जो अब हैंडीक्राफ्ट एक्सपोर्ट के आंकड़ों में नजर आ सकता है। एक्सपोर्ट प्रमोशन काउंसिल फॉर हैंडीक्राफ्ट (ईपीसीएच) के मुताबिक जीएसटी रिफंड में देरी और ग्लोबल मार्केट में कम डिमांड का असर करेंट फिस्कल में 3.5 फीसदी की गिरावट के साथ नजर आ सकता है।

एक्सपोर्ट आंकड़ों पर दिख सकता है असर

ईपीसीएच के चेयरमैन ओ पी प्रह्लादका ने बताया कि एक्सपोर्टर्स को वर्किंग कैपिटल के नहीं होने के कारण कई ऑर्डर कैंसल करने पड़े हैं। एक्सपोर्टर्स की शिपिंग एक से दो महीना तक लेट जा रही है। इसका सीधा असर उनके रीपिट ऑर्डर पर पड़ रहा है।

दिख सकता है जीएसटी का असर

साल 2016-17 में हैंडीक्राफ्ट एक्सपोर्ट 24,500 करोड़ रुपए था। अभी तक मौजूदा फाइंनेशियल ईयर का 10 महीने का एक्सपोर्ट करीब 19,862 करोड़ रुपए हुआ है। प्रह्लादका ने कहा कि इसका असर एक्सपोर्ट आंकड़ों पर पड़ सकता है। अभी तक जैसे आंकड़ें आ रहे हैं उससे लगता है कि हैंडीक्राफ्ट एक्सपोर्ट अपनी पिछली ग्रोथ से 3.5 फीसदी गिर सकता है। साल 2016-17 में हैंडीक्राफ्ट एक्सपोर्ट ने 13 फीसदी से अधिक की ग्रोथ दर्ज की थी।

ALSO READ : Government makes GSTR-3B filing more user friendly

3,500 करोड़ रुपए के रिफंड हैं अटके

प्रह्लादका ने कहा कि एक्सपोर्टर्स खासकर एसएसएमई सेक्टर का 3,500 करोड़ रुपए का रिफंड अटका हुआ है। उन्हें बैंकों से भी लोन नहीं मिल रहा है।

रिफंड की तय की जाए डेडलाइन

एक्सपोर्टर्स सरकार ने जीएसटी रिफंड की डेडलाइन तय करने की मांग कर रहे हैं। सरकार बताए की इस तारीख के बाद रिफंड मिलना शुरू हो जाएगा। एक्सपोर्टर्स सरकार रिफंड सब्सिडी 3 फीसदी से बढ़ाकर 5 फीसदी करने की मांग कर रहे हैं।

Source : Money Bhaskar


Share this Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

r