जीएसटी में हो जाए फ्रॉड तो यहां करें शिकायत, ब्याज के साथ मिलेगा हर्जाना

Share this Post

नई दिल्‍ली : अगर जीएसटी के नाम पर आपसे ज्‍यादा पैसा वसूला जा रहा है तो सरकार ने ऐसा करने वालों पर नकेल करने का भी बंदोबस्‍त कर दिया है। जीएसटी के तहत नेशनल एंटी प्रोफिटियरिंग अथॉरिटी (ऍन.ऐ.ऐ.) का गठन हो चुका है। सरकार ने गुरुवार को ही इस अथॉरिटी को मंजूरी दी है। बता दें कि हाल ही में सरकार ने कई प्रॉडक्‍ट्स पर जीएसटी की दरें घटाई हैं। ऐसे में कारोबारियों को निर्देश दिए गए हैं कि उसका फायदा ग्राहकों तक पहुंचाया जाए। लेकिन इसके बावजूद अगर कोई आपसे ज्‍यादा जीएसटी वसूलता है तो अब उस पर कार्रवाई की जाएगी। इसके लिए कस्‍टमर ऍन.ऐ.ऐ. में शिकायत कर सकता है। कारोबारी के दोषी पाए जाने पर ग्राहक को ब्‍याज समेत पैसा वापस मिलेगा।

कैसे करेंगे शिकायत?
– अगर किसी कस्टमर को लगता है कि उससे किसी सामान या सर्विस के लिए जीएसटी के तहत ज्‍यादा पैसे लिए गए हैं तो वह इसकी शिकायत ऍन.ऐ.ऐ. की स्‍क्रीनिंग कमेटी के सामने कर सकता है।
– लेकिन शिकायत उसी राज्‍य में करनी होगी, जहां से जुड़ा यह मामला होगा।
– अगर मामला ऐसा है, जिससे कई राज्‍य के लोगों पर असर हो सकता है तो शिकायत सीधे स्‍टैंडिंग कमेटी के सामने रखी जा सकती है।

डीजी सेफगार्ड के पास जाएगा मामला
– अगर शुरुआती जांच में शिकायत सही पाई गई तो आगे की जांच के लिए उसे डायरेक्‍टर जनरल (डीजी) सेफगार्ड के पास भेजा जाएगा।
– जांच के बाद डीजी अपनी रिपोर्ट ऍन.ऐ.ऐ. के पास भेजेंगे। इसके बाद ऍन.ऐ.ऐ. इस पर कार्रवाई करेगा।

ALSO READ : What to expect from next GST Council meeting

अथॉरिटी में होंगे 5 मेंबर
– ऍन.ऐ.ऐ. में 5 मेंबर होंगे। इसके प्रेसिडेंट कैबिनेट सेक्रेटरी पीके सिन्‍हा होंगे।
– इसके मेंबर्स में रेवेन्‍यु सेक्रेटरी हसमुख अढिया, सीबीएसई चेयरमैन वनजा सरना और दो राज्‍यों के चीफ सेक्रेटरी होंगे।
– यह अथॉरिटी सिर्फ दो साल के लिए ही बनाई गई है। प्रेसिडेंट की पोस्ट संभालने के दो साल के बाद यह अपने आप खत्‍म मान ली जाएगी। ​

वापस कराया जाएगा ज्‍यादा वसूला पैसा
– कारोबारी ने कस्टमर से जीएसटी के नाम पर अगर ज्यादा पैसा लिया है तो डीजी की जांच रिपोर्ट के बाद ऍन.ऐ.ऐ. कारोबारी से ब्याज समेत पैसा वापस करवाएगा।
– अगर कारोबारी ने पैसा लौटाया, लेकिन किसी वजह से यह कस्टमर तक नहीं पहुंच पाया तो इसे कंज्‍यूमर वेलफेयर फंड में डाल दिया जाएगा।

जीएसटी रजिस्‍ट्रेशन भी हो सकता है कैंसिल
– ऍन.ऐ.ऐ. को अगर लगता है कि दोषी कार्रवाई पर ज्‍यादा सख्‍त कार्रवाई की जरूरत है तो वह संबंधित कारोबारी का जीएसटी रजिस्‍ट्रेशन भी कैंसल कर सकता है।

सोर्स : भास्कर


Share this Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

r