सेटेलमेंट स्‍कीम : 2462 करोड़ के बकाए पर 70 फीसद तक छूट पाएं

Share this Post

देहरादून : जीएसटी लागू होने से पहले के सेंट्रल एक्साइज व सर्विस टैक्स के बकायेदारों के लिए सेंट्रल बोर्ड ऑफ इंडायरेक्ट टैक्सेज एंड कस्टम्स (सीबीआईसी) ने वन टाइम सेटेलमेंट स्कीम लागू की है।

सबका विश्वास (विरासत विवाद समाधान) योजना-2019 के नाम से शुरू की गई योजना में बकायेदार अपना टैक्स जमा कर 70 फीसद तक छूट प्राप्त कर सकते हैं।

देहरादून स्थित सेंट्रल जीएसटी आयुक्तालय ने इस योजना को शुरू कर दिया है, जो कि दिसंबर माह तक चलेगी। शुक्रवार को नेहरू कॉलोनी स्थित कार्यालय में पत्रकारों से वार्ता करते हुए सेंट्रल जीएसटी आयुक्त अनुज गोगिया ने कहा कि उत्तराखंड में सेंट्रल एक्साइज व सर्विस टैक्स के 942 बकायेदार हैं।

जिन पर 2462 करोड़ रुपये का बकाया चल रहा है। इस वसूली को लेकर कई प्रकरण जांच में हैं, कई कोर्ट में लंबित हैं, जबकि कुछ अपील में चल रहे हैं। ऐसे ही बकायेदारों के लिए यह योजना शुरू की गई है।

किसी भी स्तर पर चल रहे प्रकरणों के निपटारे के लिए संबंधित प्रतिष्ठान अधिकतम 70 फीसद की रियायती दर पर टैक्स जमा कर सकते हैं। इसके साथ ही योजना में ब्याज, पेनल्टी आदि से भी प्रतिष्ठानों को मुक्त रखा गया है।

आवेदन करने के 60 दिन के भीतर प्रकरण का निस्तारण कर दिया जाएगा। पत्रकार वार्ता में संयुक्त आयुक्त अमित गुप्ता भी उपस्थित रहे।

बकाये के ये प्रकरण दायरे में
30 जून 2019 की स्थिति के मुताबिक, जिनमें कारण बताओ नोटिस के जवाब में कार्रवाई लंबित है बकाया राशि।
 कोई जांच, अन्वेषण या लेखापरीक्षा, जिसमें 30 जून 2019 या इससे पहले कार्रवाई की गई हो।
 बकाये के स्वैच्छिक प्रकटन।

इस तरह मिलेगा योजना का लाभ
 ब्याज, पेनल्टी व जुर्माने की माफी।
 जिनमें निर्णय न हुआ हो या अपील लंबित हो, उसमें 50 लाख या इससे कम की बकाया राशि पर 70 फीसद छूट।
 50 लाख रुपये से अधिक के बकाये पर 50 फीसद छूट।
 बकाया राशि की पुष्टि की दशा में 50 लाख या इससे कम की राशि पर 60 फीसद की छूट।
 अन्य मामलों में यह छूट 40 फीसद रहेगी।
 स्वैच्छिक प्रकटन की स्थिति में ब्याज व पेनल्टी तो नहीं पड़ेगी, मगर शुल्क की पूरी राशि अदा करनी होगी।

ये प्रकरण सेटेलमेंट स्कीम में शामिल नहीं
 तंबाकू और पेट्रोलियम उत्पाद।
 जिसमें दोष साबित किया गया हो।
 दोषपूर्ण रिफंड के मामले।
 निपटान आयोग के समक्ष लंबित मामले।

सीबीआईसी की वेबसाइट के लिए यहा क्लिक करें

ALSO READ :

indian customs and central gst, cgst, central excise, service tax
Gujarat High Court issues notice to CBIC, Centre, GST Council

Share this Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

r