CBI raids Two IRS Officers in Gutkha Scam (Eng-Hindi)

Share this Post

CBI raids Two Additional Commissioner rank IRS Officers in Gutkha Scam

Chennai : The CBI has carried out searches at the Chennai residence of Additional Commissioner of Central GST, Mr. Senthil Valavaen IRS, in connection with the Gutkha scam.

CBI also conducted raids at the residence of Mr. S Sridhar IRS, former Additional Commissioner, GST Intelligence (DGGI), in Chennai on Thursday.

The gutkha scam came to light in July 2017, when Income Tax sleuths raided the godown, offices and residences of a pan masala and gutkha manufacturer who was facing charges of tax evasion to the tune of Rs 250 crore.

The Tamil Nadu government had banned the manufacture, storage and sale of chewable forms of tobacco, including gutkha and pan masala, in 2013.

The gutkha manufacturer had allegedly paid bribes to a Tamil Nadu minister and officials to facilitate the production and sale.

चेन्नई : सीबीआई ने जीएसटी के अतिरिक्त कमिश्नर सेंथिल वलावईन के चेन्नई आवास पर गुटखा घोटाले के सिलसिले में वृहस्पतिवार को छापेमारी की। अधिकारियों ने वृहस्पतिवार को बताया कि चेन्नई में जीएसटी इंटेलिजेंस (डी.जी.जी.आई.) के पूर्व अतिरिक्त कमिश्नर एस. श्रीधर के आवास पर भी छापेमारी की गई।

अधिकारियों ने बताया कि भारतीय राजस्व सेवा के अधिकारी वलावईन के चेन्नई स्थित परिसर पर गुटखा घोटाले के सिलसिले में छापेमारी की गई। एजेंसी ने एमडीएम ब्रांड के गुटखा निर्माता अन्नामलाई इंडस्ट्रीज के मालिकों और कुछ सरकारी अधिकारियों को इस मामले में पिछले महीने गिरफ्तार किया था।

कम्पनी का नाम पहले जयम इंडस्ट्रीज था और 2013 में तमिलनाडु में गुटखा पर प्रतिबंध लगने के बाद इसका नाम बदलकर अन्नामलाई इंडस्ट्रीज कर दिया गया ताकि बिक्री जारी रखी जा सके।

एजेंसी के अधिकारियों ने कहा कि जयम इंडस्ट्रीज के मालिकों — ए वी माधव राव, उमा शंकर गुप्ता और श्रीनिवास राव ने प्रतिबंध के बावजूद अधिकारियों, नेताओं और विनियमन अधिकारियों को कथित तौर पर प्रभावित कर एमडीएम ब्रांड के गुटखे को बेचना जारी रखा।

गुटखा घोटाला जुलाई 2017 में प्रकाश में आया था, जब आयकर अधिकारियों ने एक पान मसाला और गुटखा निर्माता के गोदाम, कार्यालयों और आवासों पर छापेमारी की थी। उस पर 250 करोड़ रुपये की कर चोरी के आरोप थे।

तमिलनाडु सरकार ने 2013 में गुटखा और पान मसाला सहित चबाए जाने वाले तंबाकू के निर्माण, संग्रह और बिक्री को प्रतिबंधित कर दिया था। गुटखा निर्माता ने निर्माण और बिक्री सुविधा हासिल करने के लिए तमिलनाडु के मंत्री और अधिकारियों को कथित तौर पर रिश्वत दी थी।

ALSO READ :

supreme_court_india_law_india
Supreme Court Upholds GST Compensation Tax as Legally Valid

Share this Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

r