Asstt. Commissioner, CTO & ACTO arrested by ACB (Eng-Hindi)

Share this Post

Bhopal : The Lokayukta Police has arrested an Asstt. Commissioner of MP State GST Department while taking bribe of Rs. 50,000. The Officer was arrested from his office situated in Bittan Market in Bhopal. The Officer demanded 1 lacs Bribe amount from a Petrol Pump Owner. The Pump Owner has already paid an amount of Rs. 10,000 to the Officer.

However after the arrest, the Asstt. Commissioner was constantly saying that he was innocent & is being framed.

Deepak Kori, a resident of Sehore Gulab City, Sehore, has a petrol pump named Pragya Fule in Astha city. The annual tax assessment of the pump was fixed. According to Police Inspector Salil Sharma, the Asstt. Commissioner, Vishal Maarda, objected to the documents of Deepak. Said that BPCL has not told you to sell the goods, so you get tax of Rs.2.20 crores.

In order to validate the documents submitted by Deepak, Vishal sought 10 lacs rupees bribe. Ultimately the matter of depositing one lakh bribe and one lakh tax was decided by Deepak. On November 18, Deepak lodged a Complaint to the Lokayukta police.

On Tuesday, The Lokayukta Officers sent Deepak to the Asstt. Commissioner’s Office with chemical coted Notes. In afternoon, the Asstt. Commissioner was arrested by the Lokayukta Police as he took the Bribe amount of Rs. 50,000 from Deepak.

In another case,
Hyderabad : Anti Corruption Bureau officials on Wednesday arrested Commercial Tax Officer of Sanathnagar, N. Venkata Satyanarana Rao, having already caught his subordinate red-handed the previous day while accepting bribe.

Rao’s subordinate, A. Satyanarayana Murthy, Assistant Commercial Tax Officer, was caught at his office in Abids while accepting the bribe of ₹ 25,000 from Sanjay Raghuram of Zoomy Food, Begumpet for an official favour.

“He was arrested in connivance with Murthy had demanded the bribe,” an official release from ACB said.

भोपाल : बिट्टन मार्केट स्थित वाणिज्य कर अॉफिस में पदस्थ असिस्टेंट कमिश्नर को लोकायुक्त पुलिस ने 50 हजार की रिश्वत लेते दबोचा है। एक पेट्रोल पंप संचालक से टैक्स सैटलमेंट के नाम पर एक लाख रुपए रिश्वत मांगी जा रही थी। पहली किश्त के रूप में दस हजार रुपए दिए जा चुके थे। हालांकि, पकड़े जाने के बाद असिस्टेंट कमिश्नर ने कहा कि उन्होंने रिश्वत की रकम नहीं मांगी थी।

सीहोर की पारस गुलाब सिटी निवासी दीपक कोरी का आष्टा स्थित कोठरी में प्रज्ञा फ्यूल्स के नाम से पेट्रोल पंप है। पंप का वार्षिक टैक्स निर्धारण किया गया। टीआई सलिल शर्मा के मुताबिक बिट्टन मार्केट स्थित वाणिज्यकर दफ्तर में पदस्थ असिस्टेंट कमिश्नर विशाल मैड़ा ने दीपक के दस्तावेजों पर आपत्ति ली। कहा कि बीपीसीएल द्वारा आपको माल बेचा जाना नहीं बताया गया है, इसलिए आप पर 2.20 करोड़ रुपए का टैक्स बनता है।

दीपक द्वारा जमा किए गए दस्तावेजों को मान्य करने के एवज में विशाल ने दस लाख की रिश्वत मांगी। आखिरकार एक लाख की रिश्वत और एक लाख का टैक्स जमा कराने की बात दीपक से तय हुई। परेशान होकर 18 नवंबर को दीपक ने इसकी शिकायत लोकायुक्त पुलिस से कर दी।

मंगलवार को कैमिकल लगे नोट के साथ टीम ने दीपक को विशाल के दफ्तर भेजा। दोपहर साढ़े 12 बजे अपने दफ्तर में ही विशाल ने रिश्वत के रूप में दीपक से 50 हजार रुपए लिए और टेबल की दराज में रख लिए। यहां पहले से मौजूद टीम ने उन्हें धरदबोचा।

एक अन्य मामले में,
हैदराबाद : भ्रष्टाचार विरोधी ब्यूरो के अधिकारियों ने बुधवार को सनथनगर के वाणिज्यिक कर अधिकारी, एन वेंकट सत्यनाराण राव को गिरफ्तार कर लिया, जिनके सहयोगी एक दिन पहले ही रिश्वतखोरी के मामले में गिरफ्तार हुए थे।

भ्रष्टाचार विरोधी ब्यूरो ने राव के अधीनस्थ, ए सत्यनारायण मूर्ति, सहायक वाणिज्यिक कर अधिकारी, को 25,000 रुपए की रिश्वत स्वीकार करते हुए रंगे हाथों गिरफ्तार किया था। वे ज़ूमी फूड्स के मालिक, संजय रघुराम के रिश्वत लेते हुए गिरफ्तार हुए थे।

भ्रष्टाचार विरोधी ब्यूरो की एक आधिकारिक विज्ञप्ति में कहा गया, “मूर्ति ने रिश्वत की मांग के साथ उन्हें मिलकर गिरफ्तार कर लिया था।”

ALSO READ :

gst news
रेलवे पार्सल घर के बाहर यूपी जीएसटी हुई 24 घंटे तैनात

Share this Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *