ई-वे बिल तीन बार निरस्त करने पर हो सकती है कार्यवाही

Share this Post

आगरा : ई-वे बिल डाउनलोड करके निरस्त करने वाले सावधान हो जाएं। ऐसा तीन बार करना संदिग्ध बना सकता है। इसके चलते विभागीय कार्रवाई का सामना करना पड़ सकता है।

ऐसा करने के आदेश राज्य जीएसटी मुख्यालय से आए हैं। लिहाजा, कड़ी मोनिटरिंग की जा रही है।

ई-वे बिल व्यवस्था लागू होने के बाद भी बड़े पैमाने पर कर चोरी हो रही है। करापवंचना के नए-नए तरीके निकाले जा रहे हैं। इसको देखते हुए विभाग भी अपडेट होने की कवायद कर रहा है। कब और कैसे चोरी को अंजाम दिया जा रहा है, इसको लेकर विभाग ने बिंदु तैयार कर लिए हैं।

इसके अंतर्गत अगर कोई एक माह में तीन बार से ज्यादा ई-वे-बिल डाउनलोड करके कैंसिल कर देता है, तो शक के दायरे में आ जाएगा। विभागीय अधिकारियों का कहना है कि कई बार यह गलती हो सकती है, लेकिन हर बार नहीं। अक्सर व्यापारी ई-वे-बिल से माल सप्लाई कर देते हैं और बिल को कैंसिल भी कर देते हैं। इससे उनका मकसद भी पूरा हो जाता है और टैक्स नहीं भरना पड़ता है।

इसके अलावा शक के दायरे में वे लोग भी आएंगे जो बिल डाउनलोड कर रहे हैं, लेकिन रिटर्न दाखिल नहीं कर रहे हैं। यानि खरीद-बिक्री बराबर हो रही है, पर टैक्स नहीं जा रहा है। ऐसे कारोबारियों से पूछताछ की जाएगी। सही जवाब न मिलने पर कार्रवाई होगी।

ई-वे बिल से हो रही कर चोरी रोकने को मुख्यालय से आदेश आए हैं। इसके तहत अगर कोई एक माह तीन बार बिल डाउनलोड कर निरस्त करता है, तो शक के दायरे में आ जाएगा। इन पर कार्रवाई भी हो सकती है’- डिप्टी कमिश्नर राज्य जीएसटी विभाग

सोर्स : जागरण

और पढ़ें : मध्य प्रदेश में व्यापारियों ने ढूंढ निकाला जीएसटी का तोड़ , लिया करोड़ों का इनपुट क्रेडिट


Share this Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

r